Firewall in hindi | फ़ायरवॉल क्या है और कितने प्रकार का होता है

hello फ्रेंड्स आज हम what is Firewall in hindi के बारे में जानेगे की firewall कैसे काम करता है। firewall की utility क्या है। firewall सॉफ्टवेयर है या  hardware है। फ़ायरवॉल के कितने प्रकार की होती है? what is Firewall in hindi टॉपिक के माध्यम से firewall की आवश्यकता और uses देखेंगे, तो सुरु करते है।

what is Firewall in hindi Firewall in hindi

फ़ायरवॉल क्या है: what is Firewall in hindi

फायरवॉल एक तकनीक है जिसके द्वारा हम किसी भी computer नेटवर्क को सुरक्षित एवं secure रख सकते हैं क्योंकि फेयरवेल एक नेटवर्क सिक्योरिटी सिस्टम है जो हमारे नेटवर्क में आने वाले पैकेट और नेटवर्क से बाहर जाने वाले पैकेट को एक निश्चित ट्रैफिक नियमों के हिसाब से मॉनिटर और कंट्रोल करता है अगर कोई packet ऐसा है जिसमें कुछ suspect लग रहा है तो वह उसे पैकेट को रोक देता है

इसी प्रकार दूसरे शब्दों में बोल सकते हैं की फेयरवेल authorize एवं unauthorized नेटवर्क के बीच एक सिक्योरिटी वाल के रूप में कार्य करता है यह इंटरेस्टेड नेटवर्क के लिए एक बैरियर का काम करता है फायरवॉल में पहले से सेट कुछ नियम होते हैं जो यह देखकर बनाए जाते हैं कि कौन सा पैकेट सस्पेक्ट है और कौन सा सही उसी उन्हीं नियमों के आधार पर फायरवॉल पैकेट को रोकता है और नेटवर्क में आने की अनुमति देता है

फायरवॉल की आवश्यकता एवं इतिहास:what is history of firewall in hindi

फायरवॉल से पहले नेटवर्क सिक्योरिटी router पर स्थित access control लिस्ट के द्वारा सिस्टम की सिक्योरिटी संभाली जाती थी access control लिस्ट में ऐसे नियम होते थे जो यह निर्धारित करते थे कि specific IP एड्रेस को नेटवर्क Access प्रदान किया जाना चाहिए या उसे access को रोक देना चाहिए लेकिन एक्सेस कंट्रोल लिस्ट उसे पैकेट की nature को निर्धारित नहीं कर सकता जिसे वह ब्लॉक कर रहा है साथ ही अकेले access control list में threats को नेटवर्क से बाहर रखने की क्षमता नहीं है इसलिए फेयरवेल पेश किया गया था इंटरनेट से कनेक्टिविटी अब आर्गेनाइजेशन के लिए optional नहीं है

इंटरनेट तक पहुंचने में संगठनों को लाभ तो मिलेगा क्योंकि संगठन के आंतरिक लोग भरी दुनिया से बातचीत करने में सक्षम होंगे लेकिन संगठन के लिए यह खतरा पैदा करता है इसी प्रकार के खतरों से निपटने के लिए या unauthorized एक्सेस को रोकने के लिए फायरवॉल की आवश्यकता महसूस हुई

Introduction of what is firewall in hindi: फ़ायरवॉल का परिचय

Firewall एक तकनीक है जिसके द्वारा हम किसी भी नेटवर्क को सुरक्षित एवं secure रख सकते हैं क्योंकि firewall एक नेटवर्क सिक्योरिटी सिस्टम है जो हमारे network में आने वाले packet और नेटवर्क से बाहर जाने वाले पैकेट को एक निश्चित ट्रैफिक नियमों के हिसाब से मॉनिटर और कंट्रोल करता है अगर कोई पैकेट ऐसा है जिसमें कुछ suspect लग रहा है तो वह उसे पैकेट को रोक देता है इसी प्रकार दूसरे शब्दों में बोल सकते हैं की फेयरवेल authorize एवं unauthorized नेटवर्क के बीच एक सिक्योरिटी वाल के रूप में कार्य करता है यह इंटरेस्टेड नेटवर्क के लिए एक बैरियर का काम करता है फायरवॉल में पहले से सेट कुछ नियम होते हैं जो यह देखकर बनाए जाते हैं कि कौन सा पैकेट सस्पेक्ट है और कौन सा सही उसी उन्हीं नियमों के आधार पर फायरवॉल पैकेट को रोकता है और नेटवर्क में आने की अनुमति देता है

Type of firewall in hindi

1. Software firewall in hindi
2. Hardware firewall in hindi

1. Software firewall in hindi:

Software firewall सबसे सस्ता और आसानी से मिलने वाला firewall है यह विभिन्न प्रकार के Operating system जैसे windows 7, windows 8, windows 10 आदि में पहले से ही inbuilt मिलता है यह फेयरवेल कंप्यूटर सिस्टम में अलग से भी इंस्टॉल किया जा सकता है विंडोज फायरवॉल मे comodo, zene alarm आदि फेयरवेल प्रयुक्त होते हैं कंप्यूटर में इसके कंट्रोल पैनल में जाकर अपनी जरूरत के हिसाब से फायरवॉल की सेटिंग भी बदल सकते हैं

इसके अलावा भी अनेक को ऐसे विकल्प हैं जिनके द्वारा कंप्यूटर की सिक्योरिटी को सुधार या नियंत्रित किया जा सकता है जैसे एंटीवायरस avast, mcafee, norton, quickheal आदि भी फायरवॉल के समान ही माने जाते हैं क्योंकि यह भी अनऑथराइज्ड एक्सेस को रोकने में मदद करते हैं

जब भी हम कंप्यूटर में किसी नए सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल करते हैं तो हमारे कंप्यूटर में एक पॉप अप दिखाई देता है जिसमें परमिशन मांगी जाती है कि क्या आप अपने प्रोग्राम को कंप्यूटर में इंस्टॉल करना चाहते हैं या नहीं क्योंकि फेयरवेल ने इस प्रोग्राम को ब्लॉक कर दिया है तो यह परमिशन भी फेयरवेल या किसी अन्य कंपनी के एंटीवायरस को डालने पर उसके द्वारा मांगी जाती है यूजर चाहे तो उसे ऑप्शन को अपने हिसाब से सेट कर सकता है या तो उसे एक्सेस दे दे या उसे ब्लॉक कर सकता है

2.Hardware farewell in hindi:

hardware फ़ायरवॉल physically रूप से दिखाई देने वाला फ़ायरवॉल है ये internet राऊटर के साथ जुड़कर unwanted traffic को रोक कर के authorize  एक्सेस प्रदान करता है फ़ायरवॉल के कुछ उदाहरण है।  जैसे सिस्को फेयरवेल नेटवर्क सिक्योरिटी फायरवॉल आदि फेयरवेल अलग-अलग मेथड पर काम करते हैं लेकिन उनका purpose सिर्फ नेटवर्क को सिक्योरिटी प्रदान करना ही होता है फेयरवेल नेटवर्क में एक बैरियर या अवरोध का काम करता है तथा अंदर आने वाले और किसी कंपनी से बाहर जाने वाले नेटवर्क की मॉनिटरिंग करता है

हार्डवेयर फायरवॉल वर्तमान समय में लगभग सभी राउटर में by default पहले से ही मौजूद रहते हैं जिनका काम होता है कि एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में वायरस को जाने से रोकना इसे एक उदाहरण से समझ सकते हैं  एक विद्यालय में 10 कंप्यूटर की एक लैब है और वह सभी कंप्यूटर एक ही नेटवर्क से जुड़े हैं और वहां पर जी नेटवर्क या मॉडेम का इस्तेमाल किया जा रहा है उसमें अगर फायरवॉल ऑन है तो सभी कंप्यूटर जो राउटर से जुड़े हैं उनमें फेयरवेल ऑटोमेटिक ही काम करेगा जब भी वह कंप्यूटर से इंटरनेट पर कार्य किया जाता है

तब फेयरवेल सभी कंप्यूटरों को अनऑथराइज्ड एक्सेस से secure करता है कंप्यूटर से जब भी सर्वर पर कोई request भेजी जाती है तो उसके साथ एक नेटवर्क आईडी भी जुड़ कर जाती है तो जब सर्वर से request का रिप्लाई वापस आता है तो नेटवर्क आईडी भी उसे पैकेट के साथ जुड़कर वापस आती है जिससे फेयरवेल उसे पहचान जाता है और सही पैकेट मानकर उसे पैकेट को अंदर आने की अनुमति देता है इसके अतिरिक्त अगर कोई दूसरा पैकेट उसके साथ अंदर आने की कोशिश करें तो फायरवॉल उसे बाहर ही रोक देता है

इसे भी पढ़े

computer ka vargikaran
printer in hindi

Version of firewall in hindi:

1. packet filtering firewall in hindi:

फिल्टरिंग फेयरवेल यह फायरवॉल बाहर जाने वाले डाटा और नेटवर्क में अंदर आने वाले सभी डाटा पैकेट की निगरानी करके उन्हें IP address प्रोटोकोल एंड port के आधार पर पास करता है या उन्हें नेटवर्क पर रोक कर नेटवर्क को सुरक्षित करता है पैकेट फिल्टरिंग फेयरवेल को फर्स्ट जेनरेशन आफ फायरवॉल भी कहा जाता है यह OSI model की तीसरी लेयर पर काम करता है पैकेट फिल्टरिंग का उपयोग छोटे नेटवर्क तक ही उपयुक्त है क्योंकि बड़ा नेटवर्क होने पर इसे लागू करने में अनेक प्रकार की परेशानियां आती हैं पैकेट फिल्टर फेयरवेल काफी तेजी से काम करता है लेकिन इसी तेजी के कारण इसका यह नुकसान है कि यह ट्रैफिक का इंटरनल इंस्पेक्शन नहीं करती यह फायरवॉल स्टेट ऑफ कम्युनिकेशन को मॉनिटर नहीं करती

2. Proxy server firewall in hind :

ये फ़ायरवॉल application firewall या गेटवे फ़ायरवॉल या application level gateway के नाम से भी जानी जाती है प्रोक्सी सर्वर फायरवॉल को सबसे अच्छे प्रकार के फेयरवेल माना जाता है क्योंकि यह ओसी मॉडल की एप्लीकेशन लेयर पर पैकेट को फिल्टर करके नेटवर्क को सुरक्षा देते हैं प्रोक्सी फेयरवेल आपके आईपी एड्रेस को मास्क करते हैं और ट्रैफिक के विभिन्न प्रकारों को सीमित करते हैं वह जिन प्रोटोकॉल को सपोर्ट करते हैं उनके लिए एक पूर्ण और प्रोटोकॉल आवारे सुरक्षा विश्लेषण प्रदान करते हैं

एक प्रोक्सी फेयरवेल एक प्रोक्सी सर्वर है किंतु सभी प्रोक्सी सर्वर प्रोक्सी फेयरवेल नहीं है एक प्रोक्सी फेयरवेल नेटवर्क ट्रेफिक को पहले इंस्पेक्टर करता है उसके बाद उसे प्रोटेक्ट करता है यह इंटरनल यूजर एवं इंटरनेट के मध्य एक यूजर की तरह गेटवे का काम करता है राउटर में प्रयुक्त होने वाली स्टेटिक पैकेट फिल्टर फायरवॉल ऐसी फायरवॉल होती है जो डायनेमिक से अधिक एवं प्रोक्सी सर्वर से कम सुरक्षित होती है

3. circuit level gateway firewall in hindi: सर्किट लेवल गेटवे सर्किट लेवल गेटवे ओसी मॉडल की सेशन लेयर पर काम करता है यह तकनीक प्रोक्सी की तरह ही कार्य करता है और ट्रैफिक को सर्किट लेवल फिल्टरिंग प्रदान करता है इसकी सिक्योरिटी लगभग एप्लीकेशन लेयर के बराबर होती है यह यूजर दाताग्राम प्रोटोकॉल वह ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकोल के स्तर की सिक्योरिटी उपलब्ध कराता है यह ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकोल एंड सीक को वेरीफाई करते हुए सिक्योरिटी प्रोवाइड करता है यह डाटा को खुद फिल्टर नहीं करता यह सिर्फ डाटा के सोर्स को वेरीफाई करता है इसलिए अगर डाटा का सोर्स वैलिड है तो डाटा पैकेट में अनऑथराइज्ड एक्सेस है तो भी यह सिस्टम में पास कर देगा इससे अन्य को सिस्टम इनफेक्टेड हो सकते हैं

4. Stateful inspection firewall:

Stateful packet inspection  को dynamic पैकेट फिल्टरिंग भी कहा जाता है यह end to end traffic stream की जांच करता है यह फेयरवेल OSI model की चौथी लेयर अर्थात ट्रांसपोर्ट लेयर और उससे नीचे की लेयर पर कार्य करता है स्टेटफुल मल्टी लेयर फेयरवेल को सेकंड जेनरेशन फायरवॉल भी कहा जाता है स्टेटफुल फिल्टरिंग में प्रयुक्त होने वाले स्टेटफुल फायरवॉल एक कंप्यूटर या राउटर होता है जो ट्रैफिक की निगरानी करता है और उसे फिल्टर भी करता है

इस प्रकार की फिल्टरिंग को स्टेटफुल पैकेट इंस्पेक्शन या डायनेमिक पैकेट फिल्टरिंग भी कहा जाता है यह फेयरवेल कनेक्शन ओरिएंटेड पैकेट को फिल्टर करती है ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकोल एक स्टेटफुल पैकेट है स्टेट फुल इंस्पेक्शन फायरवॉल पैकेट फिल्टरिंग फेयरवेल से ज्यादा सीकर मानी जाती है क्योंकि यह फेयरवेल ट्रैफिक का इंटरनल इंस्पेक्शन करती है यह ट्रैफिक में स्टेट ऑफ कम्युनिकेशन को मॉनिटर करती है जिससे नेटवर्क अधिक सीकर बनता है

5. Tateful inspection firewall in hindi:

Teteful inspection  फेयरवेल यह तकनीक काफी अच्छी और एडवांस है क्योंकि यह एप्लीकेशन लेयर की सुरक्षा प्रदान करती है Teteful inspection फेयरवेल की कार्य प्रणाली ऑर्डर के आधार पर नहीं होकर पैकेट के कंटेंट्स के आधार पर उसके कोर्ट destination, source आदि के आधार पर डाटा पैकेट की जांच करके नेटवर्क में आने की एक्सेस प्रदान करता है

Teteful inspection फेयरवेल के द्वारा पैकेट डाटा को किसी भी admin के द्वारा डिफाइन किए गए नियमों के आधार पर काम न करके बल्कि पहले जो डाटा नेटवर्क से पास हो चुके हैं उनके आधार पर भी डाटा का फिल्टरिंग किया जाता है क्योंकि इसमें डाटा फिल्टर अच्छे से होता है इसी वजह से इस तकनीक में डाटा फ्लो की स्पीड थोड़ी कम हो जाती है

6. Application level firewall in hindi

यह फेयरवेल प्रोक्सी की तरह ही कार्य करता है जैसे वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क सर्विस में होता है इस प्रकार हमारा डाटा VPN के प्रोक्सी सर्वर से होकर हमें प्राप्त होता है इस प्रकार एक क्लाइंट और डेस्टिनेशन के बीच में एक प्रोक्सी सर्वर कनेक्शन स्थापित करता है इस तरह यूजर को डाटा पैकेट सबसे पहले प्रोक्सी सर्वर पर आता है और फिर प्रोक्सी सर्वर से यूजर के पास आता है इस तरह यूजर के सिस्टम और उसकी आईडी या नेटवर्क आईडी secure रहती है लेकिन इतनी प्रक्रिया होने के लिए यह है कंप्यूटर के रिसोर्स का अत्यधिक उपयोग करता है एप्लीकेशन लेयर को थर्ड जनरेशन फायरवॉल भी कहा जाता है

7. Next-gen firewall in hindi

फायरवॉल सिक्योरिटी सिस्टम में नेक्स्ट जेनरेशन फायरवॉल सबसे अधिक उन्नत और सबसे अधिक बेहतर कैपेसिटी के साथ सिस्टम को secure करता है यह डाटा को सिक्योरिटी प्रदान करने हेतु उपयोग में ली जाने वाली सभी तकनीक जैसे स्टेटफुल इंस्पेक्शन डाटा को फिल्टर करना आदि सभी रन को अप्लाई करता है यह नए और स्मार्ट तरीके से सिस्टम को सुरक्षा प्रदान करता है तथा data पैकेट पर कई तरह के सुरक्षा तकनीक अप्लाई कर डाटा की सुरक्षा को सुनिश्चित करने का काम करता है यह एक signature-based engine की तरह कार्य करता है जिसमें घुसपैठ की संभावना नहीं होती इस प्रकार के फायरवॉल सभी अच्छी एवं लेटेस्ट टेक्नोलॉजी को अपने में शामिल किए हुए होते हैं

Advantage of firewall in hindi:फायरवॉल फ़ायरवॉल के फायदे

  •  किसी भी वेबसाइट की सुरक्षा करने में फ़ायरवॉल का बहुत महत्वपूर्ण योगदान है फ़ायरवॉल के लाभ निम्न है।
  •  अपनी साइट के कंप्यूटर को एक्सेस करने को कण्ट्रोल करता है
  • अपने कंप्यूटर में कितनी बार एक्सेस किया है ये ध्यान रखना

Disadvantage of firewall in hindi: फ़ायरवॉल की कमिया

  • फ़ायरवॉल की अनेको फायदे हमने देखे लेकिन चाहे कितनी भी अच्छी कोई भी चीज़ क्यों ना हो लेकिन उसके कुछ कमिया जरूर होती है
  • अगर आप अच्छी कंपनी की फायरवाल नहीं लगवाते है तो ये ram और cpu का उपयोग ज्यादा करता है जिस से कंप्यूटर की स्पीड थोड़ी स्लो हो जाती है।
  • सॉफ्टवेयर फ़ायरवॉल सिर्फ उसी कम्यूटर को प्रोटेक्ट करेगा जिंसमे फ़ायरवॉल इनस्टॉल हो ज्यादातर कंप्यूटर में फ़ायरवॉल एंटीवायरस के रूप में दी जाती है।

आशा करता हूँ what is firewall in hindi के माध्यम से आप समझ गए हो की firewall kya hai, firewall kitne parkar ki hoti hai. और उसके क्या उपयोग है अगर आप को कुछ भी जानकारी मिली हो तो पोस्ट को शेयर करे और किसी टॉपिक पर आप पोस्ट चाहते हो तो कमेंट कर सकते है धन्यवाद्

Leave a Comment